Paash Library in Karnal

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/haryana/4_6_4667781.html

साहित्य के जरिए जिंदगी की तलाश

Jul 27, 12:24 am
करनाल, जागरण संवाद केंद्र

करनाल में साहित्यक गतिविधियां एकाएक बढ़ी हैं। साहित्य की ओर रुझान बढ़ाने का काम पाश पुस्तकालय ने किया है। वहां हर वर्ग के लोग साहित्य पढ़ रहे हैं तो युवा पीढ़ी जिंदगी का रास्ता खोजने के साथ बेहतरीन ज्ञान प्राप्त करने में जुटी है। यह अलग बात है कि शहरी युवा अंग्रेजी और ग्रामीण लोग हिंदी साहित्य पढ़ना अधिक पसंद करते हैं।

करनाल के सिविल अस्पताल रोड स्थित पाश पुस्तकालय का निर्माण 20 फरवरी 1994 को एडीजीपी वीएन राय ने शहीद सिपाहियों की याद में कराया। इस समय पुस्तकालय में विभिन्न तरह की दस हजार पुस्तकें हैं। हाल ही में एसपी एएस चावला ने 20 हजार रुपये के साहित्य, समर्ग साहित्य व हिंदी के उपन्यास उपलब्ध कराए हैं। पुस्तकालय में इस समय 500 सदस्य हैं।

पाश पुस्तकालय के संचालक राजीव रंजन का कहना है कि पुलिस विभाग द्वारा बनाया गया पाश पुस्तकालय हर वर्ग के लोगों खासकर युवा पीढ़ी को बेहतरीन ज्ञान व पढ़ाई की स्वतंत्रता देता है। पुस्तकालय में इस समय देश व विदेश के लेखकों के साहित्य, इतिहास, पापुलर साइंस सीरीज, लेखकों व कवियों की लोक जीवनी, आत्मकथा, समर्ग ग्रंथावली, हिंदी व अंग्रेजी की किताबें, बच्चों की ज्ञानवर्धक किताबें तथा कार्टून व चित्रांकन की किताबें उपलब्ध हैं। पुस्तकालय में बच्चों को ज्ञानवर्धक फिल्में भी दिखाए जाने का प्रावधान है।

राजीव रंजन के अनुसार साहित्य के प्रति कुछ समय पहले लोगों का लगाव कम हो गया था, लेकिन पिछले समय से इसमें वृद्धि हुई है। रिसर्च करने वाले, एमए, नौकरीपेशा व नई पीढ़ी के शिक्षकों में साहित्य के प्रति लगाव अधिक देखा जा रहा है। युवा पीढ़ी सबसे अधिक प्रेम चंद, शेक्सपीयर, भगत सिंह व श्रीलाल शुक्ला द्वारा लिखित साहित्य को पसंद करती हैं। हर रोज लगभग 80 किताबें लोग घर पढ़ने के लिए ले जाते हैं तो पूरा दिन लोग खासकर युवा पुस्तकालय में ही आकर किताबों में रुचि ले रहे हैं। पाश पुस्तकालय सुबह दस बजे से शाम तक खुला रहता है और सोमवार के दिन बंद रहता है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: