Hindi film actor Manoj Bajpayee quotes Paash 15-08-2008

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर सभी साथियों को मेरी तरफ़ से बधाइयाँ और शुभकामनाएँ।

एक छोटी-सी झोंपड़ी, लकड़ी की चौकी पर बैठे हुए मास्टर साहब, सामने बोरी पर बैठा हुआ मैं और मेरे साथ गांव के कई बच्चे। और क, ख, ग की आवाज़ से पूरा माहौल गूंज रहा था। क्लास ख़त्म करने से पहले मास्टर जी ने कहा कि अगले दिन बाँस की छोटी-छोटी तिल्लियाँ लेकर आना और तिल्लियों में तिरंगा बनाकर लाना। पूरी रात हम तिल्लियाँ काटते रहे, छीलते रहे और क़रीब पंद्रह-बीस तिरंगे तिल्लियों में डालकर अगले दिन स्कूल पहुंचे। एक मध्यम आकार के लकड़ी के पोल से तिरंगा लगा हुआ था। मास्टर जी ने उसे लहराया और पहली बार मास्टर जी के सुर-से-सुर मिलाकर मैंने जन-गण-मन गाया था। विश्वास करें आज तक नहीं भूला हूँ। वो चार किलोमीटर पैदल चलकर जाना, क़तार में सारे बच्चों के पीछे हाथ में तिरंगा लेकर पगडण्डियों पर चलते जाना रह रहकर याद आता है।

वापस घर जाकर माता-पिता को जन-गण-मन टूटी-फूटी आवाज़ में सुनाना भी याद है। उस समय का हिन्दुस्तान भी कुछ याद है और उस समय का बिहार भी याद है। क़रीब तीन साल पहले फिल्म ‘1971’ की शूटिंग कर रहा था, तो रोहतांग पास की माइनस 14 डिग्री की ठंड में दस दिन तक शूटिंग करते हुए भी परेशानी का एहसास कभी नहीं हुआ। इसका कारण शायद बचपन में पड़ा देश के लिए जज़्बे का बीज था। शायद इसलिए सारी यूनिट के हतप्रभ होते भी दस दिन तक मौत से खेलते हुए ‘1971’ के क्लाइमेक्स की शूटिंग की थी। क्योंकि मैं अंदर से सिर्फ़ फ़िल्म नहीं बना रहा था। मैं अपने काम से अपने देश के प्रति अपना सम्मान प्रगट कर रहा था। जब पुणे में ‘1971’ के प्रदर्शन के बाद लेफ़्टिनेंट जनरल ने कहा कि ये फ़िल्म हली फ़िल्म है, जिसने इंडियन आर्मी के साथ न्याय किया है तो मेरी आँखें भर आईं थीं। ‘1971’ की शूटिंग मेरे लिए मेरी बेहतरीन यादों में से एक है। ‘1971’ ने मुझे बेहतरीन अभिनय का सुख दिया। ‘1971’ मेरी अच्छी और बेहतरीन फ़िल्मों से एक है। ‘1971’ मेरे देश की फ़िल्म है और वो मेरे लिए गर्व है।

वैसे, अपनी यादों से इतर बात करूँ तो जब-जब यह दिन आता है, तब-तब इसको मनाने के तरीक़े आपकी आँखों के सामने दिखते हैं और कानों को सुनायी भी देते हैं। कहीं ढोल-नगाड़े बजते हैं तो कहीं टेलीविजन पर प्रधानमंत्री का भाषण चल रहा होता है। कहीं पर बच्चों की किलकारियाँ सुनायी देती हैं, तो किसी-किसी घर से कोई भी आवाज़ नहीं आ रही होती है – मतलब छुट्टी मन रही है। इस बार का स्वतंत्रता दिवस कुछ अलग है और बहुत ही मिला-जुला भी। मन में विभिन्न तरह के विचार आ रहे हैं। अभिनव बिंद्रा के गोल्ड मेडल जीतने की ख़ुशी भी है, तो नैना देवी में 100 से ज़्यादा लोगों के मारे जाने, अहमदाबाद ब्लास्ट में कई लोगों के मारे जाने, जम्मू-कश्मीर में रोज़ होने वाली मौतें-प्रदर्शन और उनसे उठती हुई राजनीति तथा अनेक प्रकार की अच्छी और बुरी बातें इस बार मन को सुकून भी दे रही हैं तो परेशान भी कर रही हैं। हर बार के स्वतंत्रता दिवस पर एक सजग नागरिक होने के नाते सोचता हूँ कि कब वो दिन आएगा, जब हम बिना परेशानी के, बिना किसी द्वंद्व के गर्व के साथ झंडे के नीचे खड़े होकर जन-गण-मन गा सकेंगे। आशा है कि वो दिन क़रीब है। आशा है कि सारे लड़के और लड़कियाँ शिक्षा के रास्ते पर चलेंगे। आशा है कि सबको बराबर का अवसर मिलेगा। आशा है कि सबके पास रोटी, रोज़गार, कपड़ा और मकान होगा। आशा है तभी कुछ हो सकता है। आशा है तभी कुछ बदलेगा। क्योंकि पाश ने सही कहा है कि सबसे बुरा होता है सपनों का मर जाना। हम सब सपने देखते रहें। सपने देखना भी एक गतिविधि है या यूँ कहें कि सपना देखना ही आगे जाने का संकेत करता है। बाक़ी तो सही कहा है कि जो बीत गई सो बात गई। चलिए, हम मिलकर सपना देखें।

आज स्वतंत्रता दिवस का मौक़ा है, तो यादों में यही दिन था। पिछली पोस्ट पर कई कमेंट थे। आलोचना है – प्रशंसा भी। कई के जवाब ज़ेहन में हैं, लेकिन वो सब अगली पोस्ट में। एक बार फिर, स्वतंत्रता दिवस की बधाई।

आपका

मनोज बाजपेयी

2 Responses to “Hindi film actor Manoj Bajpayee quotes Paash 15-08-2008”

  1. its wonderful article …………….i like it.

  2. Manish Pandey Says:

    kuch khas sa hai is article main jisme thand se mar jane ke khyal se pahle desh sewa ka khayal aata hai .acha hai….

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: